शुक्रवार, 21 अगस्त 2015

आतंकवादी याकूब की फांसी या मुसलमान को फाँसी

#याकूब #जिलानी #संजयदत्त #न्यायपालिका #आतंकवाद
याकूब की फांसी के समय से ही कई बंधू और नेता संजय दत्त के बचने का उदाहरण दे रहे हैं क्योंकि वो हिन्दू था..अब आगे लिखने से पहले बता दूँ की न तो मैं संजय दत्त जैसे आतंकी का समर्थक हूँ न ही कलाम जैसे DNA वाले मुसलमानो का विरोधी..
संजय दत्त के मुद्दे का स्पष्ट सा उत्तर है की क़ानूनी दृष्टि से सबूतों की अनुपलब्धता और उसकी ऊपर तक पहुच के कारण वो बचत रहा ..फिर भी अंततः 5 साल जेल की हवा खानी पड़ेगी हालांकि उसे भी फांसी होनी चाहिए थी मगर भारत का कानून ऐसा है की सौ गुनहगार छूट जाये मगर एक बेगुनाह न फसे...
अब इसे हिन्दू मुसलमान से जोड़ने वालो को सैकड़ो मुसलमानो के उदाहरण दे सकता हूँ जो संजय दत्त जैसे किसी राष्ट्रद्रोही गतिविधि में लिप्त थे मगर साक्ष्यों के अभाव में छोड़ दिए गए..एक उदहारण देना चाहूँगा संसद हमले के एक प्रमुख आरोपी और अफजल के साथ साजिशकर्ता दिल्ली यूनिवर्सिटी के अरेबिक प्रोफ़ेसर एस ए आर जिलानी का जो सुप्रीम कोर्ट द्वारा बरी किया गया सिर्फ इसलिए की पुलिस उसके खिलाफ उतने सबूत नहीं दे पायी जीतना कोर्ट में आवश्यक था.. हालांकि कोर्ट ने उसे बरी करते समय ये बात मानी की उसे संसद हमले की पूर्व जानकारी थी..उसकी एक फोन काल का विवरण निम्न है जो दिल्ली पुलिस ने संसद हमले के अगले दिन टेप किया था..
Caller: (Bother of Gilani) What have you done in Delhi?
Receiver: (Gilani) It is necessary to do (while laughing) ( Eh che zururi).
Caller: Just maintain calm now.
Receiver: O.K. (while laughing)Where is Bashan?
इसके बाद फोन कट जाता है...
इसके अलावा अफजल गुरु से दिन में कई बार फोन पर जिलानी की बात होती थी जिसका कन्फर्मेशन एयरटेल और एस्सार ने अपने रिकार्ड से दिया मगर क्या बात हुई इसका पता नहीं चला..मतलब एक ओर संसद हमले की प्लानिंग हो रही है और दिन में जिलानी साहब अफजल को 10 बार फोन करके दुआ सलाम कर रहे हैं?? ये बात न आप मानेंगे न ही सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार की..
परंतु दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट ने ये भी कहा की हमले की जानकारी जिलानी को थी मगर  क़ानूनी दृष्टि से साक्ष्य इतने नहीं उपलब्ध है सजा दी जा सके अतः जरुरी साक्ष्यों के आभाव में जिलानी महोदय को बरी किया जाता है...
अब संजय दत्त के नाम पर छाती कूटने वाले जिलानी को बरी करने पर कहेंगे क्या की उसे मुसलमान होने के कारण छोड़ दिया गया?इसी प्रकार मुम्बई हमलो के आरोपी सपा नेता अबू आजमी भी बच गया..उसने अपना गुनाह याकूब के सर पर डाल कर किनारा कर लिया..
भारत का कानून इतना लचीला है की कसब को भी मौका मिला और रात को 2बजे एक आतंकवादी याकूब के लिए सुप्रीम कोर्ट खुलता है तो संजय दत्त जैसा आतंकी फरलो पर मौज करता है..अतः ये सुविधा सभी संपन्न लोगो हेतु है जो जेठमलानी और भूषण जैसे वकीलों को खरीदने की क्षमता रखते हैं.. बाकी आप सब समझदार हैं की यहाँ क्या होता है...उत्तर प्रदेश में  किस प्रकार आतंकियों के ऊपर से उत्तर प्रदेश में मुकद्दमे हटाने का आदेश मुलायम ने जारी किया और कोर्ट ने कहा था की आज मुकद्दमा हटाओ कल भारत रत्न दे देना......

आशुतोष की कलम से

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आप को ये लेख कैसा लगा अपने विचार यहाँ लिखे..